Entries by Gadadhar Das

गीर गाय | गीर गाय का पालन | गीर गाय की कीमत

गीर गाय काठियावाड़ (गुजरात) जंगलो की गीर नसल की गाय गीर गाय काठियावाड़ के दक्षिण में गीर नामक जंगलो में पायी जाती है। इनका ललाट (माथा) विशेष उभरा हुआ और चौड़ा होता है, कान लम्बे और लटके हुए होते है तथा सिंग छोटे होते है। गीर नस्ल की गायों का रंग विशेष प्रकार का होता […]

अग्निहोत्र कृषि

अग्निहोत्र कृषि पूर्ण प्रकट विज्ञान है। वायुमंडल पवित्र करने के लिए नियमित रूप से अग्निहोत्र करने की हमारे यहाँ प्राचीन परंपरा रही है। अग्निहोत्र यज्ञ विधान का मूल तत्व है। यज्ञ का अभिप्राय अग्नि द्वारा घर एवं वायुमंडलको पवित्र करने की प्रक्रिया से है। इस प्रक्रिया द्वारा वायुमंडल एवं वातावरण को प्रकृति की स्वाभाविक शक्तियों, […]

ए1 व ए2 दूध की कहानी

‘गौ की महिमा’ पुस्तिका से साभार उधृत मूल गाय के दूध में प्रोलीन अपने स्थान 67 पर बहुत दृढ़ता से अपने पड़ोसी स्थान 66 पर स्थित अमीनोएसिड आइसोल्युसीन से जुड़ा रहता है। परन्तु जब (ए1 दूध में) प्रोलीन के स्थान पर हिस्टिडीन आ जाता है, तब इस हिस्तिडीन में अपने पड़ोसी स्थान 66 पर स्थित […]

,

विदेशी गौवंश से जैविक खेती असंभव

विदेशी गोवंश अथार्थ वह गाय की प्रजाति जो भारत से बाहर की हो उस गोवंश का दूध-घी अनेक असाध्य रोग पैदा करता हैं, उसका गोबर व गौमूत्र विषमुक्त कैसे हो सकता हैं? हमारी जानकारी के अनुसार जिन खेतों में इनकी गोबर खाद डलेगी, उनमे खेती होने के उपरांत उपज बहुत घट जायेगी, उन खेतों में उपज […]

,

विषाक्त है विदेशी गऊओं का दूध

मथुरा के ‘पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय एवं गौ अनुसंधन संस्थान’ में नेशनल ब्यूरो आफ जैनेटिक रिसोर्सिज़, करनाल (नेशनल क्रांऊसिल आफ एग्रीकल्चर रिसर्च-भारत सरकार) के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. देवेन्द्र सदाना द्वारा एक प्रस्तुति 4 सितम्बर को दी गई। मथुरा विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के सामने दी गई प्रस्तुति में डा. सदाना ने जानकारी दी किः अधिकांश विदेशी गोवंश […]

,

विषैले दूध की कहानी से पर्दा हटा

अनेक लोगों के समान हम लोग भ स्वदेशी गोवंश को उपयोगी समझकर उसके पक्ष में प्रचार, प्रयास कर ह रहे थे। लगभग 5 वर्ष पूर्व ‘नैट’ से वास्ता पड़ा। संयोग की बात कहें या उस परम सत्ता का खेल, एक ऐसी साईट मिली जिससे पता चला कि अधिकांश विदेशी गऊएं ‘ए1’ नामक बीटाकैसीन प्रोटीन वाली […]

Repeat Breeding – Homeopathic Treatment

Homeopathic treatment of repeat breeding in bovines in north Gujarat S. Chandel, A. I. Dadawala, H. C. Chauhan, Pankajkumar and H. R. Parsani College of Veterinary Science and Animal Husbandry SDAU Sardarkrushinagar-385506 Corresponding author email: [email protected] Introduction A repeat breeding animal is one which has normal reproductive tract with normal oestrus cycle but which does […]

a1 milk vs a2 Milk Benefits & Side Effects

The National Bureau of Animal Genetic Research has recently demonstrated the superior milk quality of Indian Zebu (humped) Cattle breeds specially cow milk. After scanning 22 cattle breeds, scientists concluded that in five types of cow high milk-yielding native breeds – Red Sindhi, Sahiwal, Tharparkar, Rathi and Gir – the status of a2 Beta – Casein […]

Draught Breeds – Indigenous Breeds

Draught Breeds The male animals are good for work and Cows are poor milk yielder are their milk yield as an average is less than 500 kg per lactation. They are usually white in color. A pair of bullocks can haul 1000 kg. Net with an iron typed cart on a good road at walking […]